Author Archives: Onkarcraft

रुद्राक्ष एक लाभ अनेक | Rudraksh Pahanane ke Fayade

रुद्राक्ष मनुष्य के जीवन में भगवान शिव द्वारा प्रदान किया हुआ एक महत्वपूर्ण उपहार हैं कथानुसार, जब भगवान शिव ने त्रिपुर नामक असुर के वध के लिए जा रहे थे तब महाघोर रूपी अघोर अस्त्र का चिंतन कर रहे थे तब उनके नेत्रों से आंसुओं की कुछ बूंदे धरती पर गिरीं, जिनसे रुद्राक्ष के वृक्ष […]

Awesome Benefits Of The Parad Shiva Lingam

Parad Shiva Lingam

According to ancient Hindu texts, it is believed that apart from Parad Shiva Linga or Narmadeshwar Shiva Linga no other form of Shiva Lingam should be worshipped at home. The Parad Shivalingam, also called the Rasalingam plays a very important role in Lord Shiva’s worship.  Paarad Shivaling is the most unique and wonderful boon gifted […]

जानिए, कितने मुख वाला रुद्राक्ष है आपके लिए लाभकारी

Glory-and-Importance-of-Rudraksha

भारतीय संस्कृति में रुद्राक्ष का बहुत महत्व है। माना जाता है कि रुद्राक्ष इंसान को हर तरह की हानिकारक ऊर्जा से बचाता है। इसका इस्तेमाल सिर्फ तपस्वियों के लिए ही नहीं, बल्कि सांसारिक जीवन में रह रहे लोगों के लिए भी किया जाता है। रुद्राक्ष को भगवान शिव के अक्ष अर्थात आंख कहे गए हैं […]

गायत्री मंत्र के जाप में रखें इन बातों का ध्यान!

gayatri-Mantra

गायत्री महामंत्र  वेदों का एक महत्त्वपूर्ण मंत्र है जिसकी महत्ता ॐ के लगभग बराबर मानी जाती है।  ऐसा माना जाता है कि इस मंत्र के उच्चारण और इसे समझने से ईश्वर की प्राप्ति होती है। यह मंत्र सर्वप्रथम ऋग्वेद में उद्धृत हुआ है। इसके ऋषि विश्वामित्र हैं और देवता सविता हैं। गायत्री महामंत्र ॐ भूर्भुव […]

इसलिए एकदंत कहलाते हैं भगवान श्रीगणेश

गणेशजी एकदंत

गणेश शब्द का अर्थ है- ज्ञान-बुद्धि तथा निर्वाण के स्वामी अर्थात ब्रह्मा, परमात्मा, परमेश्वर या परमतत्व। हिन्दू धर्म में गणेश जी सर्वाधिक महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं। वे गणों के ईश अर्थात स्वामी, स्वस्तिकरूप तथा प्रणवस्वरूप हैं। प्रत्येक शुभ कार्य में सबसे पहले इनका पूजन करना अनिवार्य माना गया है। पुराणों में बताया गया है कि […]

कमलनाथ महादेव मंदिर – यहां भगवान से पहले भक्त की पूजा

kamalnath mahadev

भगवान शिव के अनेक भक्त हैं। उनमें से रावण भी एक है। हमारे देश में एक मंदिर ऐसा भी है जहां शिवजी से पहले रावण की पूजा की जाती है। राजस्थान के उदयपुर से लगभग 80 किलोमीटर दूर, झाडौल तहसील की आवारगढ़ की पहाड़ियों पर है भगवान शिव का प्राचीन मंदिर। भगवान का यह धाम […]

जानिए गणेश जी का वाहन कैसे बना चूहा?

जानिए गणेश जी का वाहन

देवों में सर्वप्रथम पूज्य गणेश जी का वाहन चूहा है। चूहा जिसे संस्कृत में मूषक कहते हैं, जो कि शारीरिक आकार में छोटा होता है। गणेश जी बुद्धि के देवता है तो चूहा को तर्क-वितर्क का प्रतीक माना गया है। चूहे में इसके अलावा और भी कई गुण होते हैं, यही कारण है कि गणेशजी […]